स्वच्छता अभियान गरीबों की सेवा – राष्ट्रपति जी

mangrol fisheries
मांगरोल में राष्ट्रपति ने फिशरीज हार्बर का लोकार्पण किया
October 3, 2017
roopani
मूक पशुओं के उपचार और सेवा में गुजरात का महाअभियान
October 6, 2017

स्वच्छता अभियान गरीबों की सेवा – राष्ट्रपति जी

Kovind

समग्र गुजरात के लिए गौरवपूर्ण अवसर पर आज राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने ग्रामीण गुजरात को खुले में शौचक्रिया से मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर दिया। महात्मा गांधीजी की 149 वीं जन्म जयंती के अवसर पर पोरबंदर की कीर्ति मन्दिर में आयोजित ग्रामीण सर्वग्राही स्वच्छता कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति ने आज यह महत्वपूर्ण घोषणा की। उन्होंने राज्य के 3300 गांवों में घन कचरा निस्तारण व्यवस्था का भी शुभारम्भ करवाया और कहा कि स्वच्छता अभियान भी गरीबों की सेवा का एक प्रकार है।

उन्होंने कहा कि गन्दगी हमारे लिए एक अभिशाप के समान है। इसके कारण अनेक प्रकार के रोग फैलते हैं, यह हम सभी जानते हैं। इन रोगों के कारण प्रतिवर्ष अनेक बालकों की मौत होती है। प्रधानमंत्री ने इसके खिलाफ 2014 में स्वच्छ भारत अभियान शुरु किया था और गुजरात ने इसमें उपलब्धि हासिल कर ली, यह अच्छी बात है।

स्वच्छता अभियान से ही महात्मा गांधी जी के स्वप्नों के भारत का निर्माण हो सकेगा और यही बापु को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। महात्मा गांधी आजादी के शिल्पी थे तो सरदार वल्लभभाई पटेल देश की एकता के कर्णधार थे। यह दोनों ही महानुभाव गुजरात ने देश को दिए और अब इस देश को महान बनाने की जिम्मेदारी हम सबकी है।

महत्मा गांधी स्वच्छता के आग्रही थे। यह उदाहरण देते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि हर किसी नागरिक को इसमें शामिल होना ही चाहिए। ग्रामीण गुजरात को ओपन डेफिकेशन फ्री बनाने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी को शुभकामनाएं दी और बिजली, कृषि, जल व्यवस्थापन क्षेत्र में गुजरात की प्रगति की सराहना की।

उन्होंने कहा कि उन्हें लोगों से मिलना अच्छा लगता है और लोगों के पास जाना भी पसन्द है। राष्ट्रपति ने ओडीफ की रिपोर्ट को स्वीकार कर ग्रामीण गुजरात को खुले में शौचक्रिया से मुक्त, ओडीएफ घोषित किया।

मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने इस अवसर पर कहा कि गांधीजी की जन्म जयंती पर उन्हीं की जन्मभूमि पर राष्ट्रपति पधारे हैं, जो आनन्द की बात है। महात्मा गांधी ने स्वराज के बाद सुराज्य का स्वप्न देखा था और उस स्वप्न को साकार करने की दिशा में गुजरात मजबूती से आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि जहां स्वच्छता वहां प्रभुता का नारा गांधीजी ने दिया था। इस बात को ध्यान में रखते हुए गुजरात में स्वच्छतालक्ष्यी कार्यक्रम व्यापक तौर पर शुरु किए गए हैं। 33 जिलों, 107 नगरों और 18000 गांवों को इसमें शामिल किया गया है।

राज्य में 3 हजार से ज्यादा जनसंख्या वाले 3300 जितने गांवों में घन कचरे के निस्तारण की व्यवस्था शुरु की गई है और गांवों में भी प्रभावी रूप से अब स्वच्छता रहेगी। इसका उल्लेह करते हुए श्री रूपाणी ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा शुरु की गई गरीब कल्याण योजनाओं को गुजरात में भी सघनता से लागु किया गया है। हम सभी संकल्प से सिद्धि की ओर बढ़ने के लिए कृतसंकल्प हैं।

कार्यक्रम में महानुभावों ने घन कचरा निस्तारण व्यवस्था के साधनों का प्रतीकात्मक वितरण किया। राष्ट्रपति ने गांधीजी के तैलचित्र पर पुष्पांजलि कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

समारोह में ग्राम विकास मंत्री श्री जयंतीभाई कवाडिया, सचिव मोनाबेन खन्धार, कलक्टर श्री कालरिया, श्री धानाणी, कई अधिकारी, जनप्रतिनिधि और नागरिक विशाल संख्या में उपस्थित थे।

 

Comments are closed.

%d bloggers like this: